Amazing FactGyanHealth

करोना के बाद मंडराया मंकीपॉक्स का खतरा, जानिए डॉक्टरों ने क्या दी सलाह?

अभी दुनिया कोरोनावायरस के खौफ से बाहर भी नहीं निकली की मंकीपॉक्स के वायरस ने दस्तखत देदी है। आप यह जानकर हैरान हो जाएंगे कि दुनिया के 75 से भी ज्यादा देशों में मंकीपॉक्स के संक्रमण फैल चुके हैं। अब भारत में भी मंकीपॉक्स के संक्रमण सामने आने लगे हैं। हालांकि दिल्ली में मंकीपॉक्स के संक्रमण आने के बाद डॉक्टरों ने सलाह दी है कि इसे डरने की जरूरत नहीं है बल्कि हम सबको सचेत हो जाना चाहिए
डब्ल्यूएचओ के मुताबिक दुनिया के 75 देशों में अब तक मंकीपॉक्स के 16,000 से भी ज्यादा केस सामने आ चुके हैं। जबकि अफ्रीका में अब तक इससे 5 मरीजों की मौत हो चुकी है। इसे लेकर यूएन के हेल्थ डिविजन की तरफ से इस बीमारी को लेकर अंतरराष्ट्रीय चिंता की पब्लिक हेल्थ इमरजेंसी की घोषणा कर दी गई है।

क्या है मंकीपॉक्स ?

मंकीपॉक्स भी एक वायरस जैसी ही बीमारी है। यह बीमारी कोरोना की तरह ही संक्रमण फैलाती है परंतु एक अच्छी बात यह है कि इसका मरीज 4 हफ्तों में अपने आप ही ठीक हो जाता है।
फोर्टिस मेमोरियल रिसर्च इंस्ट्टियूट में इंटरनल मेडिसिन के डॉक्टर श्री बालाजी ने मंकीपॉक्स को लेकर कुछ टिप्पणियां की जैसे कि संक्रमण से डरने की जरूरत नहीं है बस हमें सतर्क रहना होगा उन्होंने यह भी बताया कि इस संक्रमण में चेचक जैसे लक्षण भी दिखाई देते हैं

मंकीपॉक्स के लक्षण क्या है इसकी पहचान कैसे करें।

मंकीपॉक्स की पहचान तेज बुखार, त्वचा के घाव, दाने और लिम्फ नोड्स में सूजन इनमें से अगर कोई एक भी लक्षण आपको दिखाई देता है तो आप अपने नजदीकी डॉक्टर से तुरंत सलाह लें।

कैसे फैलता है मंकीपॉक्स?जानकारों का मानना है कि मंकीपॉक्स  मनुष्यों में श्वसन बूंदों और रोगियों के शरीर के तरल पदार्थ के संपर्क में आने से फैलता है।अगर किसी को मंकीपॉक्स हो जाता है तो इससे बचने के लिए मरीज को करोना की तरह आइसोलेट करना पड़ेगा
भारत में अभी तक मंकीपॉक्स के चार केस सामने आ चुके हैं। हाल ही में एक 34 साल के युवक में इसका लक्षण देखा गया जिसे आइसोलेट करके उसका इलाज किया जा रहा है

मंकीपॉक्स के लिए डॉक्टरों की सलाह

रविवार को दिल्ली में मंकीपॉक्स के एक संक्रमण के मिलने के बाद डॉक्टरों ने सलाह जारी की और कहा कि इससे घबराने की जरूरत नहीं है बल्कि आपको इससे सतर्क रहना होगा।

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Back to top button